Saturday, 20 July 2013

HTET : Increased Failure Rate of Recruitment of Teachers

HTET भर्ती प्रक्रिया रुकने से शिक्षकों की बढ़ी धड़कन

चंडीगढ़, 17 जुलाई। हरियाणा राज्य शिक्षक भर्ती बोर्ड के गठन को लेकर उठे विवाद और इस विवाद के चलते भर्ती बोर्ड की प्रक्रिया रुकने की वजह से ‘भावी शिक्षकों’ की धड़कनें बढ़ गई हैं। एक ओर जहां पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में मामला चल रहा है, वहीं ‘भावी शिक्षकों’ को यह डर भी सता रहा है कि अगर अगले कुछ महीनों में लोकसभा चुनावों की घोषणा हो गई तो साथ खड़ी नज़र आ रही उनकी मंजिल उनसे कोसों दूर हो जाएगी। अगर चुनावों की घोषणा हो जाती है तो फिर भर्ती बोर्ड शिक्षकों के रिजल्ट घोषित नहीं कर सकेगा।
ऐसे में अब पात्र अध्यापक संघ ने एक बार फिर से ताल ठोकते हुए सरकार के खिलाफ आंदोलन का ऐलान कर डाला है। भर्ती व चयनित पात्र अध्यापकों की नियुक्ति को लेकर चल रही रस्साकस्सी में अब संघ के कूदने से मामले में ओर घमासान मचने के आसार बनते दिख रहे हैं।
पात्र अध्यापक संघ के प्रदेशाध्यक्ष राजेंद्र शर्मा ने बताया कि भर्ती के परिणाम पर लगी रोक, चयनित पात्र अध्यापकों की कौंसलिंग व नियुक्ति तथा टीजीटी पदों की भर्ती निकलवाने, 4 वर्ष के शिक्षण अनुभव वाले अतिथि अध्यापकों व अन्य शिक्षकों को पात्रता परीक्षा से छूट देने व पीजीटी भर्ती में शार्ट लिस्टिंग से बाहर हुए उम्मीदवारों के सुप्रीम कोर्ट में चल रहे मुकदमे में 6 अगस्त को होने वाली अहम सुनवाई जैसे मुद्दों को लेकर पात्र अध्यापकों की 21 जुलाई को रोहतक में अहम बैठक होगी।
उन्होंने बताया कि 28 जुलाई को झज्जर में विशाल प्रदर्शन कर शिक्षा मंत्री को मांगों का ज्ञापन सौंपा जाएगा। उन्होंने मांग की है कि शिक्षा विभाग चयनित पीजीटी पात्र अध्यापकों की कौंसलिंग व नियुक्ति का कार्य 27 जुलाई तक पूरा करे। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार द्वारा पात्र अध्यापकों की नियुक्ति हेतु जेबीटी व पीजीटी के शेष रहे 6 विषयों के रिजल्ट घोषित करवाने के लिए प्रयाप्त प्रयास नहीं किए गए तो 28 जुलाई को झज्जर में विशाल प्रदर्शन के साथ ही व्यापक आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।

सोशल साइट्स पर भी यही चर्चा
भावी शिक्षकों की बेचैनी इस कदर बढ़ी हुई है कि सोशल साइट्स पर भी वे शिक्षक भर्ती बोर्ड के विवाद और शिक्षकों की भर्ती से जुड़ी चर्चा ही करते रहते हैं। याद रहे कि पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट द्वारा वर्तमान में जारी शिक्षक भर्ती के परिणाम पर रोक लगाई हुई है। ऐसे में भावी शिक्षकों को को यह डर सता रहा है कि यह मामला लम्बा भी खिंच सकता है। वहीं हरियाणा कैडर के जिन पीजीटी विषयों का रिजल्ट घोषित किया जा चुका है, उन विषयों में चयनित उम्मीदवारों की नियुक्ति हेतू शिक्षा विभाग द्वारा अभी तक कौंसलिंग की प्रक्रिया आरंभ न करने से उनमें भी भारी बेचैनी का आलम है।

 ट्रिब्यून न्यूज सर्विस (17.7.13)

No comments:

Post a Comment