Monday, 26 August 2013

BTC 2013 Apply Online Application Form

फर्जीवाड़े के शिकार अभ्यर्थी दोबारा करेंगे च्वाइस लॉक

मेरठ/ गोरखपुर : बीएड प्रवेश परीक्षा-2013 के विशेष चरण में च्वाइस लॉक को लेकर धोखाधड़ी की शिकायतों का सिलसिला थम नहीं रहा है। रविवार को 37 अन्य अभ्यर्थियों ने गोरखपुर विश्वविद्यालय के कंट्रोल रूम पर शिकायत की। इसके पूर्व शिकायत दर्ज कराने वाले 32 अभ्यर्थियों के च्वाइस लाक एकाउंट दोबारा खोलदिए गए। अब वे बीएड प्रवेश के लिए अपनी पसंद के कालेजों का विकल्प फिर से भर सकेंगे।
अब तक तीन कालेज ऐसे मिले हैं, जिन्हें विकल्प के रूप में सर्वाधिक प्राथमिकता के साथ भरा गया। संभव है कि और भी कालेज इस धोखाधड़ी में सामने आएं। इन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। रविवार को ऐसी ही 37 और शिकायतें मिली हैं। सभी मेरठ और आगरा से हैं। संयुक्त प्रवेश परीक्षा कराने वाले गोरखपुर विश्वविद्यालय की ओर से सभी की जांच की जा रही है, अगर सही पाई गई तो इन अभ्यर्थियों को भी दोबारा च्वाइस लॉक करने के लिए सुविधा दी जाएगी।
च्वाइस लॉक करने की अवधि अब 29 अगस्त तक बढ़ा दी गई है। रविवार शाम पांच बजे तक कुल 17500 अभ्यर्थियों ने अपनी पसंद के कालेजों का विकल्प लॉक कर दिया था।
---------------------
संगठन से बाहर हुए संदिग्ध कालेज
बीएड प्रवेश की विशेष चरण की काउंसिलिंग में धोखाधड़ी की बात सामने आने पर स्ववित्तपोषित कालेज प्रबंधक महासभा ने तीनों संदिग्ध कालेजों की संगठन से सदस्यता समाप्त कर दी है। अभ्यर्थियों से धोखा कर च्वाइस लॉक किए जाने के मामले में अब तक जिन तीन कालेजों के नाम सामने आए हैं, उसमें राधारानी डिग्री कालेज जूल्हापुर सिकंदरामऊ आगरा, श्रीकृष्ण योगीराज महाविद्यालय हाथरस तथा पंचवटी इंस्टीट्यूट ऑफ एजूकेशन एंड टेक्नालाजी, घाटरोड परतापुर, मेरठ को संगठन की प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित कर दिया गया है

No comments:

Post a Comment